होस्टिंग की जरूरी जानकारी

वेब होस्टिंग क्या होती है? | Web Hosting

हर वेबसाइट जिस पर आप जाते हैं, में एक डोमेन नाम होता है और एक वेब होस्ट। इसको समझने का आसान तरीक़ा है डोमेन नाम को एड्रेस की तरह मानना और वेब होस्टिंग को उसकी असल ईमारत।

जब आप वेब पर ब्राउज़िंग कर रहे होते हैं और कोई यूआरएल टाइप करते हैं (i.e. http://www.hostinger.com) आपका वेब ब्राउज़र उस डोमेन नाम (i.e. hostinger.com) की क्वेरी बनाता है और पूछता है कि वेबसाइट कहाँ होस्ट की गई है।.फिर वो ब्राउज़र वहां पर स्टोर्ड सारा कंटेंट लोड कर देता है।

वेब होस्टिंग, प्रभावी रूप से, एक सर्वर का प्रयोग करके एक वेबसाइट को होस्ट करने की प्रक्रिया को कहते हैं और बाज़ार में हर तरह की वेब होस्टिंग उपलब्ध है। होस्टिंगर, जैसा कि अधिकांश वेब होस्ट करते हैं, देते हैं अलग-अलग पैकेज ताकि उनके ग्राहक केवल उन फ़ीचरों के लिए भुगतान करें जिसकी उन्हें ज़रुरत है। वेबसाइट जितनी लोकप्रिय हो, उतने ही ज़्यादा फ़ीचरों की ज़रूरत उसे आगे पड़ सकती है।

अच्छी ख़बर ये है कि Hostinger के साथ आप अपने वेब होस्टिंग पैकेज को अपनी ज़रुरत के हिसाब से बड़ा कर सकते हैं, तो आप सिंगल होस्टिंग प्लान से शुरू करके, बिज़नेस प्लान में और फिर चाहे तो VPS प्लान में भी अपग्रेड कर सकते हैं।

होस्टिंग कैसे काम करती है ?

होस्टिंग
Hosting Server Illustration

आपकी वेबसाइट मूलतः फ़ाइलों का एक संग्रह और (ज़्यादातर मामलों में) डाटाबेस है जोकि आपके पाठकों को दी जाती है जब वो वेबसाइट पर सर्फिंग करते हैं। Hostinger आपके लिए वेबसाइट और डाटाबेस को स्टोर करने की जगह बनाएगा।

जब आप Hostinger पर साइन-अप करेंगे, आपको अपना एडमिन पैनल चलाने के लिए लॉगिन की जानकारी भेजी जाएगी।

Hostinger पर हम कस्टम होस्टिंग कण्ट्रोल पैनल प्रदान करते हैं। हमारे कण्ट्रोल पैनल की मदद से आप बुनियादी होस्टिंग मैनेजमेंट, रिसोर्स यूसेज की निगरानी, ईमेल एड्रेस बनाना, और WordPress जैसे CMS इंस्टालेशन, कर सकते हैं। ध्यान रहे कि ये आपकी वेबसाइट के एडमिन पैनल से अलग होगा जो तब बनेगा जब आप कोई CMS इनस्टॉल करेंगे। ये आपके सर्वर के लिए बना एडमिन पैनल है।

होस्टिंग सेवाएँ कितने प्रकार की होती हैं?

जी हाँ! वेब होस्टिंग सेवाएँ हर तरह की होती हैं, जोकि हर वेब मास्टर के लिए विभिन्न सेट-अप में आता है। समान्य रूप से, होस्टिंग को इन श्रेणियों में डाला जा सकता है:

शेयर्ड होस्टिंग: ये सबसे सस्ती प्रकार की वेब होस्टिंग होती है क्योंकि हार्डवेयर के नज़रिये से ये सबसे किफ़ायती साबित होती है। साझा होस्टिंग का मतलब है कई वेबसाइटों का एक ही सर्वर पर होस्ट किया जाना, जबकि हर यूज़र को उसके मतलब के संसाधन और स्टोरेज स्पेस दे दी जाती है। आम तौर पे, शौकिया लोगों और ब्लॉगिंग करने वालों के लिए ये सबसे अच्छा विकल्प है।

VPS होस्टिंग: एक वर्चुअल प्राइवेट सर्वर (VPS) सेट-अप एक साझा होस्टिंग सेट-अप की तरह है जो स्टेरॉइड्स पर हो। यह आम तौर पर अधिक शक्तिशाली हार्डवेयर का उपयोग करता है और इसका नाम इस तथ्य से आता है कि जब एक ही हार्डवेयर पर कई वेबसाइटें रखी जा रही हैं, हर एक वर्चुअलाइजेशन सॉफ़्टवेयर का उपयोग करता है ताकि उन्हें स्वतंत्र रूप से संचालित करने की अनुमति मिल सके, जैसे की वे समर्पित मिनी-सर्वर हों।

समर्पित होस्टिंग: डेडिकेटेड होस्टिंग प्रोफेशनल लोगों के लिए एक अच्छा विकल्प है और जैसा कि इसके नाम में भी है, ये एक सर्वर का इस्तेमाल करता है जो एक ही वेबसाइट को समर्पित होता है। यानी कि, शेयर्ड और VPS होस्टिंग से बिल्कुल भिन्न, यूज़र को स्टोरेज की जगह या संसाधन दूसरे लोगों से बाँटने नहीं पड़ते और उनके पास एक पूरा हार्डवेयर अपने लिए समर्पित होता है।

क्लाउड होस्टिंग: क्लाउड होस्टिंग वेबमास्टर्स को उन सभी सर्वरों के एक बड़े बैंक से जुड़ने की अनुमति देता है, जो एक दूसरे से जुड़े हुए हैं और इस तरह से बनाए गए हैं कि कभी भी एक दूसरे से । दूसरे शब्दों में, यदि आपको अधिक संसाधनों की ज़रुरत है, तो क्लाउड डिमांड के हिसाब से और संसाधन जुटा देगा । यदि आप 100% अपटाइम चाहते हैं और आपको इस बात की परवाह नहीं है कि आपको इसके लिए कितना भुगतान करना है तो क्लाउड होस्टिंग आपके लिए सबसे अच्छा विकल्प है ।

Hostinger क्लाउड और शेयर्ड होस्टिंग का एक मिश्रण प्रदान करता है। ये सेट-अप हमे तेज़ वेबसाइट होस्टिंग के साथ करीब-करीब 100% अपटाइम देता है और वो भी कमाल की क़ीमत पर।

VPS और शेयर्ड होस्टिंग में मुख्य अंतर क्या हैं?

अच्छा सवाल है! एक वर्चुअल प्राइवेट सर्वर (VPS), शेयर्ड होस्टिंग और समर्पित (डेडिकेटेड) सर्वर का एक मिश्रण जैसा है। ऐसा नहीं है कि ये दोनों का सबसे अच्छा मिलाप है पर हाँ अगर आपको अपनी कीमतें कम रखनी हैं तो ये एक अच्छा समझौता है। कुछ लोग ये मानते हैं कि शेयर्ड होस्टिंग एक अपार्टमेंट काम्प्लेक्स में रहने जैसा है जबकि VPS होस्टिंग एक कॉन्डो को घर बनाने जैसा।

शेयर्ड होस्टिंग के साथ आप एक सर्वर और उसके कुछ संसाधन दूसरी वेबसाइटों के साथ बाँटते हैं। एक VPS के साथ आप अब भी कुछ रिसोर्स बाँट रहे हैं क्योंकि ये हार्डवेयर से जुड़ा हुआ है पर जो सॉफ्टवेयर है वो इस तरह सेट-अप किया गया है कि एक ही मशीन कई अलग-अलग सर्वर की तरह काम करती है जिससे हर ग्राहक को एक अलग वर्चुअल सर्वर मिल सके।

जो वेबमास्टर VPS का प्रयोग करते हैं उन्हें एक डेडिकेटेड होस्टिंग सेट-अप की एडमिन पावर मिलती है, अपने हिसाब से सर्वर को कस्टमाइज़ करने की क्षमता के साथ।

अगर आपको लगता है कि VPS आपके लिए ठीक है तो हमारे सस्ते VPS होस्टिंग प्लान यहाँ देखें।

आपक को किस तरह की होस्टिंग की ज़रुरत है?

ये निर्भर करता है – कि आपकी वेबसाइट किस तरह की है? और आपका बजट क्या है?

आम तौर पे, शेयर्ड होस्टिंग शुरुआत करने के लिए सबसे बढ़िया है और Hostinger की होस्टिंग हर तरह की वेबसाइट के लिए उपयुक्त है। हमारी होस्टिंग आपको वेबसाइट के शुरूआती दिनों में लागत कम रखने की और केवल आपकी ज़रुरत के संसाधनों के लिए ही भुगतान करने की सुविधा देती है। अगर आपकी वेबसाइट चल जाती है तो आप आसानी से अपग्रेड कर सकते हैं और ज़्यादा रिसोर्स ख़रीद सकते हैं।

अंत में, हर वेबसाइट अलग है। अगर आप निश्चय नहीं ले पा रहे हैं तो क्यों न हमारी टीम से संपर्क करें ताकि हम आपसे विस्तार में चर्चा कर सकें और आपकी ज़रुरत के हिसाब से आपको सुझाव दे सकें।

होस्टिंग बैंडविड्थ क्या होती है?

आपने अपने ब्रॉडबैंड वाले से “बैंडविड्थ” शब्द अब तक कई बार सुन लिया होगा। अगर आसान शब्दों में कहें तो बैंडविड्थ डाटा की उस मात्रा को कहेंगे जोकि एक इंटरनेट कनेक्शन से चल सकता है।

जब एक पाठक आपकी वेबसाइट चलाता है, वो सर्वर पर एक रिक्वेस्ट भेजता है और सर्वर आपकी वेबसाइट उसे सर्व कर के जवाब देता है। इसे एक नल खोलने जैसा समझिये। जितने ज़्यादा लोग आपकी वेबसाइट पर आएँगे, उतना ही ज़्यादा पाइप से पानी बहेगा, जब तक कि एक ऐसा समय न आ जाए कि पाइप पानी से पूरी तरह भर जाए और उससे तेज़ न चल पाए।

वेबसाइट भी इसी तरह चलती है। अगर एक साथ कई लोग इसे इस्तेमाल करेंगे तो ये भर जाएगा और वेबसाइट धीमी होने लगेगी, शायद पूरी तरह रुक भी जाए। आपकी होस्टिंग बैंडविड्थ को उस पाइप की चौड़ाई समझिये।

होस्टिंग मे MySQL डाटाबेस क्या होता है?

MySQL एक ओपन सोर्स डाटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम है जो एक डाटाबेस के कंटेंट को इस्तेमाल करने के लिए, उसमे कुछ जोड़ने के लिए और उसे मैनेज करने के लिए, SQL (स्ट्रक्चर्ड क्वेरी लैंग्वेज) का प्रयोग करता है। चूँकि ये एक ओपन सोर्स टूल है, ये सॉफ्टवेयर डेवलपरों के बीच काफ़ी लोकप्रिय है, जिस कारण ये कई लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टमों की रीड़ की हड्डी समझा जाता है।

ज़्यादातर नए CMS (कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम जैसे WordPress) इसे डाटा स्टोर करने के लिए प्रयोग करते हैं। CMS में किया गया हर बदलाव MySQL डाटाबेस में रिकॉर्ड हो जाता है और फिर हर बार जब कोई पाठक वेबसाइट पर आता है, उस डाटाबेस का कंटेंट उसे सर्व कर दिया जाता है।

होस्टिंग मे SSL सर्टिफ़िकेट क्या होता है?

SSL सर्टिफ़िकेट एक छोटी सी डाटा फाइल है जोकि एक क्रिप्टोग्राफ़िक की का प्रयोग करता है, डिजिटली आपकी कंपनी की पहचान, उन फ़ाइलों से जोड़ने के लिए जो आपके सर्वर पर स्टोर्ड हैं। बात सिर्फ़ उस वेब पेज के पब्लिशर की पहचान साबित करने की है और किसी पाठक द्वारा उचित सुरक्षा के अभाव में वेबसाइट के संवेदनशील हिस्से न देख पाने की।

जब एक वेबसाइट एक SSL सर्टिफ़िकेट से सुरक्षित होती है, पाठक अपने वेब ब्राउज़र में एक पैडलॉक आइकॉन देखता है और वो वेबसाइट से https:// प्रोटोकॉल से जुड़ता है। SSL सर्टिफ़िकेट होने के साथ-साथ, पाठक का https के माध्यम से वेबसाइट प्रयोग करना, इस तरह ब्राउज़र और वेब सर्वर के बीच का कनेक्शन सुरक्षित किया जा चुका है और संवेदनशील जानकारी अब सुरक्षित रूप से ट्रांसफर की जा सकती है।

इसीलिए जिन वेबसाइटों पर ईकॉमर्स होता है, या जहाँ क्रेडिट कार्ड की जानकारी या अन्य वित्तीय जानकारी प्रयोग की जाती है, लोग SSL सर्टिफ़िकेट का प्रयोग करते हैं।

हम आपको देते हैं मुफ्त SSL सर्टिफिकेट प्रीमियम और बिजनेस होस्टिंग प्लान्स के साथ।

वेबसाइट कैसे बनाई जाती है?

वेबसाइट बनाने के कई तरीक़े हैं और ये हमारा लक्ष्य है कि ये प्रक्रिया आपके लिए जितनी आसान हो सके हम करें। हम चाहते हैं कि आप साइन अप करके, बिना किसी देरी के, सीधे वेबसाइट वेबसाइट बनाना शुरू कर सकें, इसीलिए हमने ये सब व्यवस्थित करने में बहुत समय लिया है।

अगर आप बस शुरुआत करना चाहते हैं तो CMS (कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम) इनस्टॉल करने के लिए सबसे सही विकल्प है हमारा ऑटो-इंस्टॉलर जोकि आप अपनी ज़रुरत के हिसाब से कस्टमाइज़ कर सकते हैं। फिर चाहे आप एक ब्लॉग बना रहे हों या अपने बिज़नेस के लिए वेबसाइट। CMS के साथ आप नए पेज बना सकते हैं और बिना किसी तकनीकी ज्ञान या कोडिंग योग्यता के आपकी वेबसाइट देखने में कैसी लग रही है ये कस्टमाइज कर सकते हैं।

कई वेबमास्टर WordPress का प्रयोग करते हैं जोकि दुनिया में सबसे ज़्यादा प्रयोग की जाने वाली CMS है। हमारे सारे होस्टिंग प्लान WordPress के हिसाब से बने हैं।

पर अगर आपको WordPress पसंद नहीं है, तो कोई बात नहीं। हम एक आसान ड्रैग एंड ड्राप वेबसाइट बिल्डर भी प्रदान करते हैं जो आपकी वेबसाइट को पाँच मिनट में लाइव कर देने के लिए बना है और वो भी बिना किसी कोडिंग या तकनीकी ज्ञान के। आप इसके बारे में और जानकारी यहाँ ले सकते हैं।